आयरन की कमी और इम्यून सिस्टम के लिए फायदेमंद है लेमन ग्रास

इस खबर को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें...

0
171

रायपुर/बैकुंठपुर। लेमनग्रास दिखने में साधारण घास लगती है लेकिन यह शरीर के लिए अत्यधिक फायदेमंद है। नींबू की महक के कारण इसकी उपयोगिता बहुत बढ़ जाती है। कई औषधीय गुणों वाली यह जड़ी-बूटी एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेंटरी, एंटी-सेप्टिक और विटामिन सी से भरपूर है जो रोगों से लड़ने की क्षमता पैदा करती है। कलेक्टर एसएन राठौर के मार्गदर्शन एवं जिला पंचायत के सहयोग से कृषि विज्ञान केंद्र दवारा सामूहिक बाड़ी विकास की संकल्पना को साकार करने के लिए मनरेगा के अंतर्गत लेमन ग्रास तेल निकालने के लिए जिला प्रशासन के द्वारा आसवन संयंत्र भी स्थापित कराया गया है।

आरएस राजपूत, कृषि विज्ञानं केंद्र (केवीके) बैकुंठपुर ने बताया, “लेमन ग्रास के उत्पादन के  लिए जिले की जलवायु अनुकूल है इस कार्य में आर्युवेद विभाग से भी मदद ली जा रही है। जिले के किसानो को लॉक डाउन से उपजे आर्थिक संकट से उबारने के लिए केवीके के सहयोग से सामूहिक बाड़ियों में मनरेगा के अंतर्गत लेमन ग्रास के उत्पादन के तरीको और उसके गुणों से परिचित कराया जा रहा है।” लेमनग्रास के गुणों के बारे में जानकारी देते हुए डॉ. जगतनारायण मिश्रा आयुर्वेद चिकित्साधिकारी ने बताया “नींबू की सुगंध वाली इस घास में कई पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, प्रोटीन, फैट, कार्बोहाइड्रेट, मिनरल, पोटैशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर, मैंगनीज, विटामिन बी-6, विटामिन सी, विटामिन ए आदि पाए जाते हैं।” उन्होंने बताया ,इसके प्रयोग से नर्वस सिस्टम, त्वचा और इम्यून सिस्टम के लिए बहुत फायदेमंद है। इसके सेवन से टाइप-2 डायबिटीज, मोटापा, कैंसर, पेट संबंधी बीमारियां, नींद न आने की बीमारी और सांस संबंधी बीमारियों से बचे रहने में मदद मिलती है। नींबू की सुगंध वाली लेमनग्रास का इस्तेमाल चाय बनाने में कर सकते हैं। इसका इस्तेमाल सूप बनाने में भी हो सकता है। इसका पेस्ट सब्जियों में इस्तेमाल कर सकते हैं।

लेमनग्रास के फायदे :
लेमनग्रास एनिमिया को दूर करने मे उपयोगी होता है। इसके नियमित सेवन से शरीर में आयरन की कमी को पूरा किया जा सकता है। चाय में इस्तेमाल करने पर बुखार, कफ और सर्दी में फायदा करता है। लेमनग्रास में कैंसर सहित कई बीमारियों से छुटकारा दिलाने वाले गुण होते हैं। लेमनग्रास के सेवन से वजन, बैक्टीरियल संक्रमण, पेट की सूजन, पेट फूलना, पेट में ऐंठन, अपच, कब्ज, दस्त, उल्टी और ऐंठन जैसी पाचन संबंधी समस्या,गठिया या आर्थराइटिस की समस्या में से राहत मिल सकती है। लेमनग्रास का सेवन कुछ विशेष परिस्थयों में वर्जित भी है। जैसे हाई ब्लड प्रेशर वाले मरीजों को, गर्भवती और स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को इसका उपयोग नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसके सेवन से माहवारी शुरू हो जाती है और गर्भपात का डर रहता है। इसका सीमित मात्रा में उपयोग करें। इसके ज्यादा उपयोग से चक्कर आना, अधिक पेशाब आना, थकान आदि हो सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here