होलागढ़ हत्याकांड : चार लोगों की गला काटकर हत्या, एक की हालत गंभीर

0
166

नई दिल्ली: यूपी के प्रयागराज से बड़ी घटना सामने आई है। उत्तर प्रदेश (यूपी) के प्रयागराज जिले के होलागढ़ में एक ही परिवार के चार लोगों को मौत के घाट उतारने वाले हत्यारों की क्रूरता देख पुलिस भी सन्न रह गई है। घर में जिस हालत में चारों सदस्यों के शव पड़े थे उसे देख ग्रामीण भी स्तब्ध रह गए। जांच में कई तरह के चौंकाने वाले खुलेसे और हत्यारों की क्रूरता सामने आई.पुलिस ने सभी के शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे दिए हैं। प्रयागराज पुलिस के अनुसार मृतकों के नाम विमलेश पांडे (40), पुत्री सोमू (22), सीबू (19), पुत्र राजकुमार (18) हैं। जबकि रचना पांडे की हालत नाजुक है। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।मौके पर पहुंचकर पुलिस ने जांच पड़ताल शुरू की तो पता चला कि घर में जबरन घुसने के कोई निशान नहीं थे। ऐसे में माना जा रहा है कि हत्यारे छत के रास्ते आए और सोते वक्त ही परिवार को निशाना बना लिया। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, जांच के दौरान पता चला कि सुबह जब पड़ोस गांव में रहने वाला व्यक्ति वैद्य को बुलाने पहुंचा, तो दरवाजा भीतर से बंद नहीं था। यही कारण था कि धक्का देने पर दरवाजा खुल गया। दरवाजों पर किसी तरह के जबरदस्ती के निशान नहीं मिले। दरवाजों की कुंडियां भी पूरी तरह सुरक्षित थीं। घर के भीतर से ही खड़ी बनी थी, जिससे छत पर जाने जा सकती थी ।छानबीन के दौरान घर के पीछे की ओर दीवार पर ईंट के बयाले भी बने मिले। माना जा रहा है कि उसी बयालों से होकर हत्यारे छत पर पहुंचे और फिर दबे पांव सीढ़ी से लेकर घर में दाखिल हो गए। हत्या के बाद वह मुख्य दरवाजे से होकर भागे और यही कारण था कि सुबह दरवाजा भीतर से बंद नहीं मिला। जिससे छत पर जाने जा सकती थी ।छानबीन के दौरान घर के पीछे की ओर दीवार पर ईंट के बयाले भी बन गए। माना जा रहा है कि उसी बयालों से होकर हत्यारे छत पर पहुंचे और फिर दबे पांव पर से घर में दाखिल हो गए। हत्या के बाद वह मुख्य दरवाजे से होकर भागे और यही कारण था कि सुबह दरवाजा भीतर से बंद नहीं मिला। जिससे छत पर जाने जा सकती थी ।छानबीन के दौरान घर के पीछे की ओर दीवार पर ईंट के बयाले भी बने मिले। माना जा रहा है कि उसी बयालों से होकर हत्यारे छत पर पहुंचे और फिर दबे पांव सीढ़ी से लेकर घर में दाखिल हो गए। हत्या के बाद वह मुख्य दरवाजे से होकर भागे और यही कारण था कि सुबह दरवाजा भीतर से बंद नहीं मिला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here