देश में पहली बार कोरोना मरीज के शव का हुआ पोस्टमार्टम, जल्द मिलेंगे इन सवालों के जवाब..

0
157

भोपाल : कोरोना वायरस से शरीर के कौन-कौन से अंगों को कितना नुकसान होता है? शरीर के अंदर वायरस कितनी देर तक जिंदा रहता है? ऐसे कुछ सवालों के जवाब जल्द ही मिलने वाले हैं. दरअसल देश में पहली बार कोरोना संक्रमित मरीज के शव का पोस्टमार्टम किया गया है.

कोरोना संक्रमित मरीज की मौत के बाद रविवार को उसकी डेड बॉडी का पोस्टमार्टम किया गया. AIIMS भोपाल का दावा है कि रिसर्च के लिए कोरोना संक्रमित शव के पोस्टमॉर्टम का ये पहला मामला है. हालांकि, अभी कुछ और शवों पर रिसर्च की जाएगी, जिसके बाद फाइनल रिपोर्ट तैयार होगी.

पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टर की टीम ने पीपीई किट समेत सुरक्षा से जुड़ी सभी गाइडलाइंस का पालन किया। फॉरेंसिक मेडिसिन के अलावा तीन अन्य विभागों की टीम ने भी करीब 2 घंटे तक शव का पोस्टमार्टम किया है। जिससे पता चल सकेगा कि शरीर में इस बारिश का प्रभाव कहां तक पड़ता है। पोस्टमार्टम के लिए अनुमति लेना इतना आसान नहीं था, इसके लिए भोपाल स्थित ऐम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) को ICMR (इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च) से मंजूरी लेनी पड़ी। जिसके बाद रविवार को कोरोना संक्रमित शख्स के रिसर्च के उद्देश्य से पोस्टमार्टम हो सका।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here