Monday, March 1, 2021
Home कृषि एवं पर्यावरण किसान आज बैलों की पूजा कर लगाएंगे ठेठरी, खुर्मी और चीला का...

किसान आज बैलों की पूजा कर लगाएंगे ठेठरी, खुर्मी और चीला का भोग

0
198

रायपुर।छ.ग. का पारम्परिक पर्व पोला आज मनाया जाएगा। किसानों घरों में मिट्टी के बने बैल व खिलौने की पूजा कर ठेठरी, खुर्मी व चीला का भोग लगाएंगे। शहर के हाईस्कूल मैदान में कुम्हारों ने मिट्टी के बैल व खिलौनों की दुकान सजाई है, लेकिन बारिश और कोरोना की वजह से इस बार कारोबार न के बराबर है। दोपहर को बारिश थमने के बाद बाजार में ग्राहकी नजर आई, लेकिन पूर्व की अपेक्षा इस बार कम दिखा।

आज पर्व को लेकर घरों-घर पकवान बनाएं जाएंगे। किसान बैलों की पूजा-अर्चना कर पकवान खिलाएंगे और अच्छी फसल की कामना करेंगे। ज्ञात हो कि पकवान बनाने के लिए एक दिन पूर्व ही तैयारियां की जाती है, इसलिए सोमवार को शहर के किराना दुकानों में भीड़ देखी गई।

दो दिन पूर्व से सज गया है बाजार, लेकिन ग्राहकी नहीं : पाेला पर्व को देखते हुए कुम्हारों ने मिट्‌टी के बैल व बर्तन बनाकर उसे बेचने के लिए बाजार में सजा चुके हैं, लेकिन लगातार बारिश की वजह से शनिवार, रविवार को बाजार में सन्नाटा पसरा हुआ था। सोमवार को भी सुबह से बारिश हो रही थी। दोपहर बारिश थमने के बाद लोग मिट्‌टी के बैल व बर्तन खरीदने बाजार में दिखे। शाम सात बजे तक बाजार में खरीददारों की काफी भीड़ थी। कोरोना काल के कारण इस बार कुम्हाराें को काफी नुकसान झेलना पड़ा है। लॉकडाउन न हो जाए इसलिए कम संख्या में मिट्‌टी के खिलौना व बैल बनाएं है।

कोरोन का प्रभाव: इस साल नहीं होगी बैल दौड़ 
कोरोना के चलते इस बार बैल दौड़ का कार्यक्रम आयोजित नहीं होगा। प्रतिवर्ष किसान अपने बैलों को सुबह से नहलाकर उसे रंग बिरंगी मोता मालाओं से सजाते हैं। इसके बाद पूजा-अर्चना कर दोपहर को बैल दौड़ कार्यक्रम मेें हिस्सा लेते हैं। इस बार कोरोना संक्रमण के कारण यह पर्व नहीं मनाया जाएगा। स्थानीय रावणभाठा में यह बैल दौड़ का आयोजन किया जाता रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here