CG CRIME : शिक्षा का अलख जगाने वाले शिक्षक बना हवस का पुजारी, नोट्स देने के बहाने बुलाया स्कूल, फिर किया छात्रा से दुष्कर्म

0
94

राजनांदगांवः छत्तीसगढ़ में दुष्कर्म (misdeeds) का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा है। आए दिन दरिंदे युवती व महिलाओं को अपनी हवस पुरी करने की कोशिश में रहते है। ऐसा ही मामला राजनांदगावं जिले से आया है। जहां एक शिक्षक ने पढ़ाई के लिए नोट्स के बहाने छात्रा को बुलाकर उससे दुष्कर्म (misdeeds) किया।

घटना के बाद जब पीड़िता चीखते हुए स्कूल से बाहर निकली तो आसपास के ग्रामीणों की नजर उस पर पड़ी। जिसके बाद ग्रामीणों ने आरोपी शिक्षक (Accused teacher) को घेरकर पकड़ लिया। घटना घुमका ब्लाक के चंवरढाल (Chawradhal of the Nomad block) की शुक्रवार का है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 376 और पाक्सो एक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है।

मिली जानकारी के अनुसार चंवरढाल स्कूल में पदस्थ शिक्षक दुर्गेश यादव ने हायर सेकंडरी की छात्रा को नोट्स देने के बहाने से फोन किया। नियत खोर आरोपी शिक्षक (teacher) ने छात्रा को फोन पर अकेले स्कूल आने को कहा। शिक्षक (teacher) की बातों को भरोसा करते हुए छात्रा स्कूल पहुंची तों वहां शिक्षक के अलावा कोई नहीं था। उसके बाद आरोपी शिक्षक छात्रा को स्कूल के क्लास रुम में ले गया। जहां उसे डरा धमकाकर दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया।

छात्रा की हालत को देख ग्रामीण आरोपी शिक्षक (Accused teacher) को घेरकर स्कूल में ही बंद कर दिए। वहीं पीड़ित छात्रा के परिजनों को घटना की सूचना देने का प्रयास किए, लेकिन उसके परिजन धान बेचने के लिए दूसरे गांव गए हुए थे। आपकों बता दें कि पीड़िता पास के ही गांव की रहने वाली है। वहीं शिक्षक मांफी मांगने से ग्रामीणों ने उसे शाम को छोड़ दिया और आक्रोश ग्रामीणों ने कहा कि आरोपी शिक्षक को कड़ी कार्रवाई की जाए।

जैसे तैसे पीड़िता अपने घर पहुंची। वहीं उसके माता-पिता रात में धान बेचकर घर लौटे तों छात्रा ने पूरे अपने साथ बीती घटना की आपबीती सुनाई। पीड़िता की बात सुनकर परिजन आसपास के ग्रामीणों के साथ घुमका थाना गए। शिकायत के बाद पुलिस ने छात्रा का बयान लिया। बयान में छात्रा ने अपने साथ हुए घटना की पूरी जानकारी दी। वहीं देर शाम तक पुलिस ने आरोपी शिक्षक को गिरफ्तार कर लिया।

बता दें कि जिले के अलग-अलग स्कूलों में पदस्थ अब तक 10 शिक्षकों पर दुष्कर्म और छेड़खानी का आरोप लगा है। परिजनों के शिकायतों के बाद इन शिक्षकों पर कानूनी कार्रवाई भी हुई है। हालात को सुधारने शिक्षा विभाग ने कई प्रयोग करने का दावा किया, टीम भी बनाई। लेकिन स्थिति अब तक जस की तस ही बनी हुई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here