दुनिया छोड़ने से पहले 20 माह की बच्ची ने संवार दी 5 लोगों की जिंदगी, जानिए कैसे?

0
191

दिल्ली। 20 साल की एक बच्ची ने दुनिया छोड़ने से पहले पांच लोगों को नई जिंदगी दी है. जी हां, आप सही पढ़ रहे हैं. महज 20 साल की बच्ची ने अपनी जान देने से पहले 5 लोगों की जिंदगी संवार दी है.ये सबसे कम उम्र की कैडेवर डोनर भी बन गई है. इसने अपने शरीर के पांच अंगों को दान किया.

दिल्ली के रोहिणी इलाके में 8 जनवरी को 20 महीने की धनिष्ठा खेलते समय अपने घर की पहली मंजिल से नीचे गिर गई थी. इसके बाद वह बेहोश हो गई. परिजन उसे तुरंत सर गंगाराम अस्पताल लेकर गए. डॉक्टरों ने उसे होश में लाने की बहुत कोशिश की लेकिन सब बेकार साबित हुआ.

11 जनवरी को धनिष्ठा को ब्रेन डेड घोषित कर दिया गया. दिमाग के अलावा धनिष्ठा के सारे अंग सही से काम कर रहे थे. तब उसके परिजनों पिता अशीष कुमार और मां बबिता ने उसके अंग दान करने का फैसला किया. धनिष्ठा का दिल, लिवर, दोनों किडनी और कॉर्निया सर गंगाराम अस्पताल ने निकाल कर पांच रोगियों में प्रत्यारोपित कर दिया.

धनिष्ठा ने मरने के बाद भी पांच लोगों अपने अंग देकर उन्हें नया जीवन दे गई. अपने चेहरे की मुस्कान उन पांच लोगों के चेहरे पर छोड़कर चली गई. धनिष्ठा के पिता और माता ने अंगदान को लेकर अस्पताल के अधिकारियों से बात की थी. दुखी होने के बावजूद ये फैसला लेना बेहद कठिन है.

धनिष्ठा के पिता आशीष ने बताया कि हमने अस्पताल में रहते हुए कई ऐसे मरीज देखे जिन्हे अंगों की सख्त आवश्यकता थी. हांलाकि हम अपनी धनिष्ठा को खो चुके थे लेकिन हमने सोचा की अंगदान से उसके अंग न ही सिर्फ मरीजों में जिन्दा रहेंगे, बल्कि उनकी जान बचाने में भी मददगार साबित होंगे.

कैडेवर डोनर उसे कहते हैं जो शरीर के पांच जरूरी अंगों का दान करता है. ये अंग हैं- दिल, लिवर, दोनों किडनी और आंखों की कॉर्निया. कैडेवर डोनर होने के लिए जरूरी है कि मरीज ब्रेन डेड हो.

इसके लिए परिजनों की अनुमति चाहिए होती है. आमतौर पर दानदाता और रिसीवर का नाम गोपनीय रखा जाता है लेकिन परिजन चाहे तो दानदाता का नाम उजागर कर सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here